Public News Live

सीमापुरी में 40 साल की महिला से दुष्कर्म

सीमापुरी में 40 साल की महिला से दुष्कर्म और उसकी तीन नाबालिग बेटियों को अगवा करने का मामला सामने आया है। महिला का आरोप है कि जब वह शिकायत करने थाने पहुंची तो उसे गेट से ही भगा दिया गया।

वरिष्ठ अधिकारियों के संज्ञान में मामला आने के बाद पुलिस ने शुक्रवार को सामूहिक दुष्कर्म, अपहरण और धमकी देने का केस दर्ज कर जांच शुरू की है।

पीड़िता की शिकायत के अनुसार वह पति व तीन बेटियों के साथ गाजियाबाद के इंदिरापुरम में रहती थी। पति से विवाद होने के चलते करीब पांच महीना पहले वह बेटियों के साथ लक्ष्मी नगर में एक दोस्त के घर रहने लगी। पिछले महीने एक मार्च को आनंद विहार में उसके पति का दोस्त इनाम मिला जिसने गाजियाबाद के शहीद नगर में किराये का कमरा और नौकरी दिलाने का आश्वासन दिया।

इनाम ने शहीद नगर में कमरा दिला दिया और चार मार्च को नौकरी के लिए पुरानी सीमापुरी में बुलाया। महिला को वह एक कमरे में लेकर गया, जहां इनाम के साथी टोनी और गुलजार मौजूद थे। आरोप है कि तीनों ने कमरा बंद कर महिला से दुष्कर्म किया और वीडियो बना लिया। शिकायत करने पर वीडियो वायरल करने की धमकी दी। वारदात के बाद डर से पीड़िता बेटियां के साथ नरेला में आकर रहने लगी लेकिन आरोपी उसे कॉल कर धमकाते रहे।

वीडियो डिलीट करने के नाम पर बुलाया

महिला के अनुसार, 24 मार्च को आरोपियों ने फोन कर वीडियो डिलीट कराने के लिए सीमापुरी बुलाया। 25 मार्च को महिला तीनों बेटियों के साथ सीमापुरी पहुंची, जहां आरोपियों ने सभी को कार में बैठा लिया। आरोपियों ने महिला महिला को नीचे फेंक दिया और तीनों बेटियों को अगवा कर फरार हो गए। बेटियों का पता नहीं चल सका है।

पुलिस पर मदद नहीं करने का आरोप

पीड़िता का आरोप है कि बेटियों के अगवा होने के बाद उसने पुलिस को सूचना दी। पुलिस मौके पर पहुंची लेकिन मामले को गंभीरता से नहीं लिया। महिला ने कई बार पुलिसकर्मियों से शिकायत करने की कोशिश की, मगर वे उसकी बातों को अनसुना करते रहे। आठ अप्रैल को उसे सीमापुरी थाने के गेट से भगा दिया गया।

शाहदरा के डीसीपी आर. सत्य सुंदरम ने कहा, ‘महिला कहां रहती है, इस बारे में स्पष्ट जानकारी नहीं दे रही है। तीनों बच्चियां इसी की हैं, यह भी स्पष्ट नहीं है। अपनी शिकायत में महिला ने जिन तीन आरोपियों के नाम बताए हैं, पता चला है कि उनमें से एक की मौत हो चुकी है। फिलहाल, केस दर्ज कर पूरे मामले की जांच की जा रही है।’

मामला जब पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों के संज्ञान में आया तो घटना के कई दिनों बाद 15 अप्रैल को पुलिस ने केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू की। महिला का कहना है कि 25 मार्च से वह लगातार दौड़ रही है लेकिन अब जाकर 15 अप्रैल को शिकायत दर्ज हो पाई है। उसे अपनी बेटियों की चिंता है कि कहीं उनके साथ कोई अनहोनी न हो जाए।

publicnewslive
Author: publicnewslive

[the_ad id="228"]

इन्हे भी जरूर देखे